बेनिन में युवा कृषि उद्धमी-परामर्शदाता कोविड-19 संकट के बावजूद अवसर देखता है

लेखक: Savitri Mohapatra

पिछले कुछ महीनों में कोविड -19 महामारी के कारण अभूतपूर्व चुनौतियां देखी गई हैं। इसने न केवल लोगों के स्वास्थ्य पर प्रभाव डाला है, बल्कि कृषि मूल्य श्रृंखलाओं को भी बाधित किया है, जिससे ग्रामीण समुदायों की आजीविका को खतरा बना रहा ।

बेनिन जैसे कम आय वाले देशों में स्थिति और भी कठिन है। महामारी के प्रसार को रोकने के उपायों के लागू होने से, आर्थिक गतिविधियों में गिरावट आई है और ऐसे समुदाय जो खेती और कृषि-आधारित उद्यमों पर निर्भर हैं, बुरी तरह प्रभावित  हुएं हैं।

बेनिन के मालिकी एग्नोरो ने कहा, "हमारे गैर-सरकारी संगठन “फ्रंटियर और ड्यूरेबल डवलपमेंट” (एफडीडी) ने कुछ पहल बुरी तरह प्रभावित हुई हैं।" “हमारी कृषि-पारिस्थितिकी प्रवर्तन परियोजना तुंगियाता में स्कूली बच्चों के लिए उद्यान को रोकना पड़ा।“

“प्रदर्शन उद्यान को बनाए नहीं रखा जा सका और कुछ चीजें चोरी हो गईं। एड़जोहों में, चोर हमारे मछली पालन परियोजना से चोरी कर रहे हैं, क्योंकि हम महामारी के कारण क्षेत्र का दौरा नहीं कर सकते हैं ” उन्होंने कहा।

मालिकी एबोमे-कालवी विश्वविद्यालय से कृषि विज्ञान संकाय के स्नातक हैं। उनके पास ग्रामीण समुदायों को सहायता करने और युवा उद्यमिता को बढ़ावा देने का एक दशक से अधिक का अनुभव है और उन्होंने सौ से अधिक युवा कृषि व्यवसायियों को प्रशिक्षित किया है। वह “गोवरनेल परामर्श व्यवसाय” के संस्थापक / निदेशक हैं, जो उद्यमिता में युवा लोगों के प्रशिक्षण और एकीकरण में विशेषज्ञता प्राप्त हैं।

कोविड -19 महामारी के कारण अपनी परामर्श व्यवसाय के सामने आने वाली चुनौतियों के बारे में बोलते हुए, उन्होंने टिप्पणी की, “सभाओं पर प्रतिबंध के कारण, आमने-सामने प्रशिक्षण का आयोजन करना मुश्किल है। हमने ऑनलाइन एक्सचेंजों की कोशिश की है, लेकिन इंटरनेट कनेक्शन हमारे अधिकांश ग्राहकों के लिए महंगे हैं।" हालांकि उन्होंने स्वीकार किया कि विश्वास संबंधों को मजबूत करने के लिए नि:शुल्क परामर्श सेवाएं प्रदान करके ग्राहकों की सहायता जारी रखना महत्वपूर्ण है।

एक आजीवन सीखने वाले, मालिकी नए ज्ञान और कौशल प्राप्त करने के बारे में भावुक हैं। इसलिए, अपनी शुरुआती आशंका के बावजूद, उन्होंने कोविड -19 संकट को अवसर के रूप में देखा। उन्होंने नए ऑनलाइन पाठ्यक्रमों में दाखिला लिया। वह अपने परिवार के साथ अधिक समय बिताने और अपने सोशल मीडिया नेटवर्किंग कौशल को मजबूत करने में भी खुश थे। एकांतवास के दौरान उनकी अंतिम खुशी यह थी कि वह रिकॉर्ड समय में “सफलता का पहला पाठ” शीर्षक से एक पुस्तक फ्रेंच भाषा में लिखने में सक्षम हुए।

कमजोर समूहों, विशेष रूप से महिलाओं और युवाओं की क्षमताओं को विकसित करने में मदद करने के लिए अपने अनुभव और प्रतिबद्धता के आधार पर, मालिकी को 2019 में, एक गैर-लाभकारी वैश्विक सेवा प्रदाता, एक्सेस एग्रीकल्चर के दूत के रूप में चुना गया। एक्सेस एग्रीकल्चर गुणवत्ता वाले वीडियो के माध्यम से वैश्विक दक्षिण में अंतरराष्ट्रीय और स्थानीय भाषाओं में किसान शिक्षा का समर्थन करता है।

मालिकी का उद्देश्य एक्सेस एग्रीकल्चर मंच के माध्यम से किसानों और ग्रामीण व्यवसायों के लिए प्रभावी कृषि प्रशिक्षण को बढ़ावा देना है। वह उम्मीद करते हैं कि सरकारें इंटरनेट कनेक्शन को अनुदान देने के लिए राजी किया जा सकता हैं ताकि अधिक से अधिक लोगों को एक्सेस एग्रीकल्चर वीडियोज से लाभ उठाने का अवसर मिल सके।


वर्ग

Designed & Built by Adaptive - The Drupal Specialists